Sun. Sep 19th, 2021
New CM of Karnataka Politics

New CM of Karnataka Politics : कर्नाटक के गृहमंत्री बवसराज बोम्मई राज्य के नए मुख्यमंत्री होंगे, सुबह 11 बजे लेंगे पद की शपथ. जाने कर्नाटक की राजनीती का फेरबदल.

New CM of Karnataka Politics
New CM of Karnataka

New CM of Karnataka Politics : कर्नाटक के गृहमंत्री बवसराज बोम्मई राज्य के नए मुख्यमंत्री होंगे, सुबह 11 बजे लेंगे पद की शपथ. जाने कर्नाटक की राजनीती का फेरबदल. कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री का नाम तय हो गया है. राज्य के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई सूबे के नए CM होंगे. शाम 7 बजे विधायक दल की बैठक में इस्तीफा देने वाले मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने बोम्मई के नाम का प्रस्ताव रखा. इसे सर्वसम्मति से पास कर दिया गया. जानकारी के मुताबिक, बोम्मई बुधवार सुबह 11 बजे पद की शपथ लेंगे.

बोम्मई रिटर्न कर्नाटक का सियासी खेल: New CM of Karnataka Politics

28 जनवरी 1960 को जन्मे बसवराज सोमप्पा बोम्मई कर्नाटक के गृह, कानून, संसदीय मामलों के मंत्री हैं. उनके पिता एसआर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट बसवराज ने जनता दल के साथ राजनीति की शुरुआत की थी. वे धारवाड़ से दो बार 1998 और 2004 में कर्नाटक विधान परिषद के लिए चुने गए. इसके बाद वे जनता दल छोड़कर 2008 में भाजपा में शामिल हो गए. इसी साल हावेरी जिले के शिगगांव से विधायक चुने गए.

बसवराज सिंचाई के मामलों के एक्सपर्ट
इंजीनियर और खेती से जुड़े होने के नाते बसवराज को कर्नाटक के सिंचाई मामलों का जानकार माना जाता है. राज्य में कई सिंचाई प्रोजेक्ट शुरू करने की वजह से उनकी तारीफ होती है. उन्हें अपने विधानसभा क्षेत्र में भारत की पहली 100% पाइप सिंचाई परियोजना लागू करने का श्रेय भी दिया जाता है.

भाजपा विधायक दल की बैठक में फैसला

विधायक दल की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक जी किशन रेड्डी और धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहे।
New CM of Karnataka Politics

विधायक दल की बैठक में केंद्रीय पर्यवेक्षक जी किशन रेड्डी और धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहे.

कर्नाटक में विधायक दल का नेता चुनने के लिए मंगलवार शाम 7 बजे बैठक बुलाई गई थी. इसमें भाजपा महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी जी किशन रेड्डी, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतिल, पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा समेत राज्य के कई बड़े नेता शामिल थे. बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने ही बोम्मई के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसे मंजूर कर लिया गया। इससे पहले, शाम 4 बजे से ही येदियुरप्पा के घर पर अनौपचारिक बैठक चल रही थी.

येदियुरप्पा ने सुझाया बोम्मई का नाम
कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई येदियुरप्पा के चहेते और उनके शिष्य हैं. सूत्रों की मानें, तो येदियुरप्पा ने इस्तीफा देने से पहले ही बोम्मई का नाम भाजपा आलाकमान को सुझा दिया था. दरअसल, लिंगायत समुदाय के मठाधीशों के साथ हुई बैठक में येदियुरप्पा ने अपनी तरफ से इस नाम को उन सबके बीच रखा था.

कर्नाटक के मशहूर लिंगेश्वर मंदिर के मठाधीश शरन बसवलिंग ने बताया अगर येदियुरप्पा एक इशारा करते, तो पूरा समुदाय उनके लिए भाजपा के विरोध में उतर आता. चुनाव में भाजपा को मुंह की खानी पड़ती, लेकिन खुद येदियुरप्पा ने बसवराज बोम्मई की हिमायत की. लिंगायत समुदाय के होने की वजह से उनके नाम पर सभी मठाधीश जल्दी राजी हो गए.

येदियुरप्पा ने बोम्मई के नाम की खुद घोषणा की। वे बोम्मई के राजनीतिक गुरु भी हैं।

येदियुरप्पा ने बोम्मई के नाम की खुद घोषणा की. वे बोम्मई के राजनीतिक गुरु भी हैं.

बोम्मई के नाम पर लिंगायत समुदाय राजी
येदियुरप्पा को सीएम पद से इस्तीफा न देने के लिए अड़े लिंगायत समुदाय के सामने येदियुरप्पा ने जब बोम्मई के नाम का सुझाव रखा, तब जाकर भाजपा का विरोध रुका. दसअसल, लिंगायत समुदाय नहीं चाहता था कि येदियुरप्पा इस्तीफा दें, लेकिन येदियुरप्पा ने इस समुदाय की बैठक में कहा था, ‘सीएम पद की शपथ लेने से पहले ही यह तय हो चुका था कि मुझे 2 साल बाद आलाकमान के निर्देश के हिसाब से काम करना होगा. शीर्ष नेतृत्व का पैगाम आ गया है. मुझे पद छोड़ना होगा.’

बोम्मई की संघ से नजदीकी भी उनके पक्ष में
बसवराज बोम्मई के अलावा मुर्गेश निरानी और अरविंद बल्लाड के नाम भी चर्चा में रहे. तीनों ही लिंगायत समुदाय से आते हैं. लेकिन बसवराज बोम्मई येदियुरप्पा के करीबी ही नहीं, उनके शिष्य भी माने जाते हैं. इसके अलावा वे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ में भी काफी लोकप्रिय हैं. माना जाता है कि संघ और येदियुरप्पा के बीच की कड़ी के रूप में इन्होंने ही काम किया. येदियुरप्पा से संघ के बिगड़े रिश्तों का असर येदियुरप्पा के कामकाज पर न पड़े इसमें भी बड़ी भूमिका बोम्मई ने निभाई.

बसवराज बोम्मई के अलावा मुर्गेश निरानी और अरविंद बल्लाड के नाम भी चर्चा में रहे। तीनों ही लिंगायत समुदाय से आते हैं।

बसवराज बोम्मई के अलावा मुर्गेश निरानी और अरविंद बल्लाड के नाम भी चर्चा में रहे. तीनों ही लिंगायत समुदाय से आते हैं.

कर्नाटक में भाजपा को तीन कोण साधने थे
सोमवार को येदियुरप्पा के इस्तीफे के साथ ही राज्य ही नहीं बल्कि पूरे देश की सियासत में हलचल थी कि आखिर बीएस येदियुरप्पा के बाद कर्नाटक का CM कौन होगा? येदि को हटाकर भाजपा ने जानबूझकर आखिर राज्य के सबसे प्रभावी समुदाय लिंगायत से विरोध मोल क्यों लिया? अगर वे रूठ गए तो भाजपा का कर्नाटक में क्या होगा? लेकिन भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने लिंगायत समुदाय और येदियुरप्पा दोनों को साधने के लिए बसवराज बोम्मई का नाम तय किया.

इन्हें भी देखें – नवीनतम सरकारी नौकरी 2021

दरअसल, भाजपा को कर्नाटक में तीन कोण साधने थे. पहला पूर्व मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा, दूसरा लिंगायत समुदाय और तीसरा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ. दरअसल, येदियुरप्पा लिंगायत समुदाय के हैं. संघ की पृष्ठभूमि के भी हैं, लेकिन भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते भाजपा से निष्कासित होने के बाद उनके और संघ के शीर्ष नेतृत्व के संबंधों के बीच दरार आ गई थी. संघ कभी नहीं चाहता था कि येदियुरप्पा भाजपा में वापस आएं, लेकिन 2013 के चुनाव में बिना येदियुरप्पा के भाजपा को मुंह की खानी पड़ी. लिहाजा भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व ने येदियुरप्पा को वापस बुला लिया.

लिंगायत समुदाय का असर 100 विधानसभा सीटों पर
कर्नाटक की आबादी में लिंगायत समुदाय की हिस्सेदारी 17% के आसपास है। राज्य की 224 विधानसभा सीटों में से तकरीबन 90-100 सीटों पर लिंगायत समुदाय का प्रभाव है. ऐसे में भाजपा के लिए येदि को हटाना आसान नहीं था. उनको हटाने का मतलब था, इस समुदाय के वोट खोने का खतरा मोल लेना.

कर्नाटक के प्रभारी जी किशन रेड्डी, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतिल, पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा समेत राज्य के कई बड़े नेता बैठक में शामिल थे।

कर्नाटक के प्रभारी जी किशन रेड्डी, केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष नलिन कुमार कतिल, पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा समेत राज्य के कई बड़े नेता बैठक में शामिल थे.

येदियुरप्पा को नाराज नहीं कर सकती थी भाजपा
भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते बीएस येदियुरप्पा को भाजपा से निष्कासित कर दिया गया था. अलग होने के बाद येदियुरप्पा ने कर्नाटक जनता पार्टी (केजपा) बनाई थी. इसका नतीजा यह हुआ कि लिंगायत वोट कई विधानसभा सीटों में येदियुरप्पा और भाजपा के बीच बंट गया था.

विधानसभा चुनाव में भाजपा 110 सीटों से घटकर 40 सीटों पर सिमट गई थी. उसका वोट प्रतिशत भी 33.86 से घटकर 19.95% रह गया था.येदि की पार्टी को करीब 10% वोट मिले थे। 2014 में येदियुरप्पा की वापसी फिर भाजपा में हुई. यह येदियुरप्पा का ही कमाल था कि कर्नाटक में भाजपा ने 28 में से 17 लोकसभा सीटें जीतीं.

यह भी देखें :- Current Affairs & GK Quiz हिंदी में

दोस्तों हमारा प्रयास है की आप सभी तक विभिन्न जॉब्स, रिजल्ट की जानकारी सही समय तक पहुचें ताकि आप उस जॉब्स के लिए सही समय पर अप्लाई (आवेदन) कर सक्रें. यही हमारा उद्देश्य भी है. इसीलिए आप प्रतिदिन हमारे वेबसाइट को फॉलो करें जिसमे हम प्रतिदिन जॉब्स, रिजल्ट, Current Affairs आदि के बारें में अपडेट करते रहते है.

यदि आपका कोंई विचार, सुझाव है तो हमें पोस्ट के निचे कमेंट सेक्शन में बेशक बताएं. जिससे हम वेबसाइट के कमियों को दूर करके और बेहतर बनाकर आपके सामने रख सकें.

नवीनतम रोजगार समाचार, रिजल्ट, Current Affairs एवं अपडेट के लिए हमारे Telegram ग्रुप और फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करे.

You May Also Like

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *