13 May 2021: हिंदी करेंट अफेयर्स और GK

By | May 13, 2021

Current Affairs GK in Hindi 13 May 2021 :- winitra.com परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों एवं पाठकों के लिए हिंदी करेंट अफेयर्स और GK. आज के करेंट अफेयर्स में-विभिन्न समसामयिक घटनाओं को हमने शामिल किया है.

Current Affairs GK in Hindi 13 May 2021
Current Affairs GK in Hindi

Current Affairs GK in Hindi 13 May 2021

winitra.com परीक्षाओं की तैयारी कर रहे छात्रों एवं पाठकों के लिए हिंदी करेंट अफेयर्स और GK क्विज़. आज के करेंट अफेयर्स क्विज में-भारतीय रिजर्व बैंक और कोरोना वायरस से संबंधित परीक्षापयोगी प्रश्नों को शामिल किया गया है.

संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट में लगाया गया वर्ष, 2022 के लिए भारत की अर्थव्यवस्था में 10.1% वृद्धि दर का अनुमान

संयुक्त राष्ट्र ने 11 मई, 2021 को यह सूचित किया है कि वर्ष, 2022 में भारत की अर्थव्यवस्था के 10.1% की दर से बढ़ने का अनुमान है. यह देश दुनिया में सबसे तेजी से विकसित होने वाली प्रमुख अर्थव्यवस्था होगा. हालांकि, इस वैश्विक एजेंसी ने आगाह किया है कि वर्ष, 2021 में भारत के विकास का अनुमान लगाना  अत्यधिक अस्थिर रहा क्योंकि यह महामारी का नया केंद्र रहा है.

संयुक्त राष्ट्र ने, विश्व आर्थिक स्थिति और पूर्वानुमान (WESP) के अपने मध्य-वर्ष के अद्यतन में, जो पहली बार जनवरी, 2021 में जारी किया गया था, यह अनुमान लगाया है कि वर्ष, 2022 में भारतीय अर्थव्यवस्था 10.1% की दर से बढ़ेगी, भारत के लिए अपनी जनवरी की रिपोर्ट में 5.9% की वृद्धि का अनुमान लगाया है.

पूर्वानुमानित 10.1% विकास दर के साथ, भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था होगी, जोकि चीन से भी आगे होगी. चीन की अर्थव्यवस्था के 5.8% की दर से बढ़ने का अनुमान है और यह वर्ष, 2021 में 8.2% से बड़ी मंदी है.

डॉ. ताहेरा कुतुबुद्दीन बनीं शेख जायद बुक पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय

डॉ. ताहेरा कुतुबुद्दीन प्रतिष्ठित शेख जायद बुक पुरस्कार जीतने वाली पहली भारतीय बन गईं हैं. मुंबई में जन्मी इस प्रोफेसर ने अपनी पुस्तक ‘अरबी ओरेशन: आर्ट एंड फंक्शन’ के लिए यह सम्मान जीता है, जिसे वर्ष, 2019 में लीडन के ब्रिल एकेडमिक पब्लिशर्स द्वारा प्रकाशित किया गया था.

डॉ. ताहेरा एक अमेरिकी नागरिक हैं, जो भारत में प्रमुख कुतुबुद्दीन परिवार में पैदा हुईं और दक्षिण मुंबई में बड़ी हुईं. उन्हें इस महीने के अंत में अबू धाबी में पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा.

उन्हें 15 वें शेख जायद बुक अवार्ड की विजेता चुना गया है.

डॉ. ताहेरा कुतुबुद्दीन के बारे में

• डॉ. ताहेरा कुतुबुद्दीन शिकागो विश्वविद्यालय में NELC विभाग में अरबी साहित्य की प्रोफेसर हैं.
• उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा फोर्ट कॉन्वेंट, प्रेजेंटेशन कॉन्वेंट इन कोडाइकनाल, विला थेरेसा हाई स्कूल और सोफिया कॉलेज मुंबई में पूरी की थी.
• अभी ये प्रोफेसर अबू धाबी की लाइब्रेरी ऑफ अरबी लिटरेचर के संपादकीय बोर्ड में भी कार्य करती हैं.
• उनका शोध शास्त्रीय अरबी कविता और गद्य में साहित्यिक, धार्मिक और राजनीतिक के विभिन्न विषयों पर केंद्रित है.

शेख जायद बुक अवार्ड के बारे में

• अबू धाबी सांस्कृतिक विभाग प्रतिवर्ष शेख जायद पुस्तक पुरस्कार के साथ अरबी साहित्य के क्षेत्र में अनुकरणीय कार्य करने के लिए लोगों (लेखकों और कवियों) को सम्मानित करता है.
• शेख जायद बुक पुरस्कार को अरबी दुनिया के नोबेल पुरस्कार के तौर पर जाना जाता है.
• इस पुरस्कार का उद्देश्य अरब दुनिया का प्रतिनिधित्व करने वाले सबसे शक्तिशाली, उत्तेजक और चुनौतीपूर्ण कार्यों का प्रदर्शन करना है.
• यह पुरस्कार “अरब लेखकों, बुद्धिजीवियों, प्रकाशकों और युवा प्रतिभाओं” को प्रदान किया जाता है जिनके लेखन और मानविकी के अनुवादों ने विद्वतापूर्ण और उद्देश्यपूर्ण तरीके से अरब सांस्कृतिक, साहित्यिक और सामाजिक जीवन को समृद्ध किया है.
• यह पुरस्कार संयुक्त अरब अमीरात के प्रमुख वास्तुकार शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान की याद में शुरु किया गया था. शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान वर्ष, 1971-2004 तक अर्थात 30 वर्षों से अधिक समय तक अबू धाबी के आधिकारिक शासक और संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति थे.
• यह पुरस्कार पहली बार वर्ष, 2007 में प्रदान किया गया था. यह दुनिया के सबसे अमीर साहित्यिक पुरस्कारों में से एक है, क्योंकि इसमें डीएच 7,000,000 का नकद पुरस्कार दिया जाता है.

ICC टेस्ट टीम रैंकिंग में भारत टॉप पर, जानें कौन से टीम किस स्थान पर

भारत ने आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन का स्थान फिर कब्जा लगा लिया है. लेकिन न्यूजीलैंड की टीम चोटी के और करीब पहुंच गई है. वे भारत से सिर्फ एक अंक पीछे है. आईसीसी ने 13 मई 2021 को ताजा रैंकिंग जारी की है.

\भारत 24 मैचों में 121 रेटिंग पॉइंट के साथ टेबल में टॉप पर है. विराट कोहली के नेतृत्व वाली भारतीय टीम के बाद न्यूजीलैंड की टीम 120 रेटिंग के साथ दूसरे नंबर पर है. इंग्लैंड 109 रेटिंग के साथ आस्ट्रेलिया को पछाड़कर तीसरे स्थान पर पहुंच गया है. चौथे स्थान पर ऑस्ट्रेलिया (108 रेटिंग) है.

रैंकटीमरेटिंग
1भारत121
2न्‍यूजीलैंड120
3इंग्‍लैंड109
4ऑस्‍ट्रेलिया108
5पाकिस्‍तान94
6वेस्‍टइंडीज84
7दक्षिण अफ्रीका80
8श्रीलंका78
9बांग्‍लादेश46
10जिंबाब्‍वे35

भारत और न्यूजीलैंड के अंक

भारत एक रेटिंग अंक के फायदे के साथ कुल 121 रेटिंग लेकर टॉप पर है. उसके 24 मैचों में 2914 अंक रहे. वहीं, विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल में भारत के खिलाफ खेलने जा रही न्यूजीलैंड के 120 रेटिंग है. उसके 18 टेस्ट में दो रेटिंग अंक के फायदे से कुल 2166 अंक हैं.

भारत और न्यूजीलैंड के बीच मैच

भारत और न्यूजीलैंड साउथम्प्टन में 18 से 22 जून तक पहला विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप फाइनल खेलेंगे. भारत ने पिछले साल से अब तक ऑस्ट्रेलिया को 2-1 और इंग्लैंड को 3-1 से हराया. इसके अतिरिक्त न्यूजीलैंड ने वेस्टइंडीज और पाकिस्तान को 2-0 से मात दी. आईसीसी द्वारा जारी बयान के अनुसार यह सालाना अपडेट 2017-18 के नतीजों में जुड़ेगा.

DCGI ने 2 से 18 साल के बच्चों पर कोवैक्सीन ट्रायल की मंजूरी दी

डीसीजीआई ने 2 से 18 साल के उम्र के बच्चों के लिए कोवैक्सीन (COVAXIN) के ट्रायल को दूसरे और तीसरे चरण के लिए मंजूरी दे दी है. डीसीजीआई की तरफ से मंजूरी मिलने के बाद हैदराबाद की भारत बायोटेक 525 स्वस्थ वॉलंटियर्स पर कोवैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण का ट्रायल करेगी. ट्रायल के दौरान पहली और दूसरी वैक्सीन का डोज़ 28 दिनों के अंतर पर दिया जाएगा.

भारत बायोटेक और आईसीएमआर के सहयोग से तैयार कोवैक्सिन को 2 साल से 18 साल के बच्चों के लिए ट्रायल की मंजूरी दे दी है. रिपोर्टों के मुताबिक, परीक्षण को कई स्थानों पर 525 प्रतिभागियों के बीच आयोजित करने की योजना है. परीक्षण आयोजित करने का मुख्य उद्देश्य सुरक्षा, अभिक्रियाशीलता और प्रतिरक्षण क्षमता के लिए बच्चों में कोवाक्सिन वैक्सीन का मूल्यांकन करना होगा. आम जनता में उपयोग के लिए स्वीकृति देने के लिए ये सभी पैरामीटर आवश्यक हैं.

भारत साल 2027 से पहले ही जनसंख्या के मामले में चीन को छोड़ देगा पीछे: रिपोर्ट

चीन के जनसंख्या विशेषज्ञों का कहना है कि भारत जल्द ही दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन सकता है. संयुक्त राष्ट्र (United Nations) का अनुमान है कि भारत साल 2027 तक चीन को पीछे छोड़कर दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन जाएगा.

चीनी विशेषज्ञों का अनुमान है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा किए गए आकलन से पहले ही यह स्थिति आ सकती है. चीन में पिछले कुछ सालों में जन्म दर में तेजी से गिरावट दर्ज की जा रही है. संयुक्त राष्ट्र ने साल 2019 में अपनी एक रिपोर्ट में कहा था कि भारत की जनसंख्या में अब से लेकर साल 2050 के बीच लगभग 27 करोड़ 30 लाख लोगों की बढ़ोत्तरी होने की संभावना है.

चीन की आबादी

चीन की आबादी 2019 की तुलना में 0.53 प्रतिशत बढ़कर 1.41178 अरब हो गई है. हालांकि देश में जनसंख्या वृद्धि की यह दर सबसे धीमी है. साल 2019 में आबादी 1.4 अरब थी. चीन का सबसे ज्यादा आबादी वाले देश का दर्जा अब भी बरकरार है. हालांकि अधिकारिक अनुमान के अनुसार अगले साल तक इस संख्या में गिरावट आ सकती है.

सबसे ज्यादा आबादी वाला देश है चीन

चीन का सबसे ज्यादा आबादी वाले देश का दर्जा अब भी बरकरार है. हालांकि अधिकारिक अनुमान के अनुसार अगले साल तक इस संख्या में गिरावट आ सकती है और जिससे श्रमिकों की कमी हो सकती है और उपभोग स्तर में भी गिरावट आ सकती है. ऐसे में भविष्य में देश के आर्थिक परिदृश्य पर भी इसका असर होगा.

केंद्र सरकार ने बैटरी स्टोरेज के लिए 18,100 करोड़ रुपये की पीएलआई योजना को दी मंजूरी

केंद्र सरकार ने 12 मई 2021 को अत्याधुनिक रसायन सेल (एसीसी) बैटरी के विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिये 18,100 करोड़ रुपये के अनुमानित व्यय की उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना (पीएलआई) को मंजूरी दे दी. भारी उद्योग मंत्रालय ने इस योजना का प्रस्ताव रखा था.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना “राष्ट्रीय उन्नत रसायन बैट्री भंडारण कार्यक्रम” को मंजूरी दे दी है. इस योजना के तहत पचास (50) गीगावॉट ऑवर्सऔर पांच गीगावॉट ऑवर्स की “उपयुक्त” एसीसीबैट्री की निर्माण क्षमता प्राप्त करने का लक्ष्य है.

इस पहल का उद्देश्य

विदित हो कि गीगावॉट ऑवर्स का अर्थ एक घंटे में एक अरब वॉट ऊर्जा प्रति घंटा निर्माण करना है. मंत्रिमंडल की बैठक के बाद सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने संवाददाताओं से कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राष्ट्रीय उन्नत रसायन सेल (एसीसी) बैट्री भंडारण कार्यक्रम को मंजूरी दी गयी है. इससे 45,000 करोड़ रुपये का विदेशी और घरेलू निवेश आकर्षित होने की उम्मीद है.

अत्याधुनिक उत्पाद का विनिर्माण

नीति का मकसद विनिर्माताओं को वैश्विक रूप से प्रतिस्पर्धी बनाना, निर्यात को बढ़ावा देना, व्यापक स्तर पर उत्पाद के जरिये पैमाने की मितव्ययिता हासिल करना तथा अत्याधुनिक उत्पाद का विनिर्माण करना है.

इलेक्ट्रिक ऊर्जा में तब्दील

आधिकारिक बयान के अनुसार एसीसी नई पीढ़ी की अत्याधुनिक भंडारण प्रौद्योगिकी है. इसके जरिये बिजली को इलेक्ट्रोकेमिकल या फिर रसायनिक ऊर्जा के रूप में भंडारित किया जा सकता है. बाद में जरूरत पड़ने पर इलेक्ट्रिक ऊर्जा में तब्दील किया जा सकता है.

रोजगार के अवसर सृजित

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि यह जलवायु परिवर्तन, हरित वृद्धि, मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत के लिये काफी फायदेमंद पहल है. यह विदेशी के साथ-साथ घरेलू निवेश लाएगा और रोजगार के अवसर सृजित करेगा.

पेट्रोल-डीजल पर निर्भरता कम होगी

एसीसी बैट्री भंडारण निर्माता का चयन एक पारदर्शी प्रतिस्पर्धात्मक बोली प्रक्रिया के जरिये किया जायेगा. निर्माण इकाई को दो वर्ष के भीतर काम चालू करना होगा. प्रोत्साहन राशि को पांच वर्षों के दौरान दिया जायेगा. योजना के अंतर्गत एसीसी बैट्री निर्माण से विद्युत चालित वाहन (ईवी) को प्रोत्साहन मिलेगा और पेट्रोल-डीजल पर निर्भरता कम होगी. इससे 2 से 2.50 लाख करोड़ रुपये की बचत होगी.

नासा के अंतरिक्ष यान OSIRIS-REx ने एस्टेरोइड के नमूनों के साथ शुरु की अपनी दो साल की वापसी यात्रा

10 मई, 2021 को क्षुद्रग्रह/ एस्टेरोइड बेन्नु से नमूने एकत्र करने के बाद नासा के OSIRIS-REx अंतरिक्ष यान ने अपना 2 साल का ऐतिहासिक मिशन शुरू किया. यह नासा का पहला एस्टेरोइड सैंपल वापसी मिशन है और यह पृथ्वी के निकट के एस्टेरोइड बेन्नु से एकत्रित सामग्री की प्रचुर राशि लेकर पृथ्वी पर वापस आ रहा है.

यह 4.5 बिलियन साल पुराना गगनचुंबी आकार का एस्टेरोइड, बेन्नु पृथ्वी से लगभग 320 मिलियन किमी दूर है. पिछले साल इस एस्टेरोइड की सतह से मलबे को इकट्ठा करने से पहले, नासा का OSIRIS-REx अंतरिक्ष यान वर्ष, 2018 में एस्टेरोइड बेन्नु तक पहुंच गया था और इस यान ने बेन्नु एस्टेरोइड के पास और इसके ईर्द-गिर्द उड़ान भरने में दो साल बिताए थे.

मुख्य विशेषताएं

• दोपहर 4:16 बजे ET, कोलोराडो में लॉकहीड मार्टिन में OSIRIS-REx नियंत्रण कक्ष को अंतरिक्ष यान से संकेत मिला कि इसने बेन्नु के चारों ओर स्थापित कक्षा से खुद को हटाने के लिए थ्रस्टरों को निकाल दिया है.
• यह अंतरिक्ष यान वर्तमान में 600 मील प्रति घंटे से अधिक गति से बेन्नु से दूर जा रहा है और 24 सितंबर, 2023 को इसके पृथ्वी पहुंचने और उटाह टेस्ट एंड टेस्टिंग रेंज में सैंपल देने की उम्मीद है.

इस अंतरिक्ष यान को पृथ्वी तक पहुंचने में दो साल क्यों लगेंगे?

नासा का OSIRIS-REx वर्तमान में पृथ्वी से 291 मिलियन मील दूर है. पृथ्वी पर वापिस लौटने और सैंपल्स प्रदान करने के लिए, यह दो बार सूर्य की परिक्रमा और 1.4 बिलियन मील की दूरी तय करेगा.

OSIRIS-REx अंतरिक्ष यान के ऐतिहासिक क्रियाकलाप

• इस OSIRIS-REx अंतरिक्ष यान को सितंबर, 2016 में फ्लोरिडा में केप कैनावेरल से लॉन्च किया गया था. इस अंतरिक्ष यान का नाम OSIRIS-REx ओरिजिन, स्पेक्ट्रल इंटरप्रिटेशन, रिसोर्स आइडेंटिफिकेशन, सिक्योरिटी, रेजोलिथ एक्सप्लोरर है.
• यह पृथ्वी के निकट के एस्टेरोइड का पहला नासा मिशन था और बेन्नु ऐसी सबसे छोटी वस्तु भी बन गया है जिसकी किसी अंतरिक्ष यान द्वारा परिक्रमा की गई है. 
• सबसे पहले OSIRIS-REx दिसंबर, 2018 में बेन्नु के नज़दीक आया था.
• इसके बाद, 20 अक्टूबर, 2020 को इस अंतरिक्ष यान ने ऐतिहासिक टच-एंड-गो सैंपल/ नमूना संग्रह किया.
• बेन्नु का अंतिम फ्लाईबाय (निकट से उड़ान) अप्रैल में सर्वेक्षण करने के लिए आयोजित किया गया था कि, कैसे OSIRIS-REx ने सैंपल संग्रह के दौरान इस एस्टेरोइड की सतह को अस्तव्यस्त और बदल दिया.

आज का प्रमुख सरकारी नौकरी

इन्हें भी देखें – नवीनतम सरकारी नौकरी

नवीनतम रोजगार समाचार एवं अपडेट के लिए हमारे whatsapp ग्रुप और फेसबुक ग्रुप को ज्वाइन करे

whatsapp ग्रुप ज्वाइन करेंयहाँ क्लिक करे
फेसबुक ग्रुप से जुड़ेयहाँ क्लिक करे
सोशल मीडिया से जुड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *